हाउं तुसारी पहाड़ी, जो सारेया दिति भुलाई

Date: 02 Mar 2017

ग्लोबलाइज़ेशन कने आधुनिकता रे बीच आसा री संस्कृति ते परंपरा केते गम होई जाया करदी। कुछ एड़ी ही कहानी हाई आसारी बोली पहाड़ी री भी। ता देखा पहाड़ी आसा ते क्या बोलना चाहंदी।

एड़ी क्या गुस्ताखी , क्या किती मैं बुराई ?
पढ़दे-लिखदे ता थे नी , बोलने गलाणे ते भी गवाई ।
एड़ी केडी खता हुई मेरे ते ओ,
जे मेरे आपणेयां हे किती हाउं पराई !!

क्या सोचदे के कुण ही क्या ग्लान्दी, ने कुथी ते आई।
हाउं तुसारी पहाड़ी, जो सारेया दिति भुलाई।

कधे हिंदी बोली , कधे पंजाबी,
फेरी अंग्रेजी री किती बडाई।
ज़्यादा पढ़ा लिखा लगने खातर ,
मेरे ते मुह दित्या फिराई |

बोली भाषा च तबदीली ता हुंदी आई ।
पर अासे आपणी बोली रा अस्तित्व् दित्या मुकाई।
बचेयां जो माँ - बापुए, हिंदी ता अग्रेजी हे सिखाई ,
ए ता पिछड़ी, पुराणी ही ,ऐ सोच केथी ते आई?

भई एड़ा भी क्या हुआ ,ए ध्याड़ा दित्या दिखाई ,
पहाड़ा री संस्कृति री पहचान हे दिती मुकाई।
भोटी , किन्नौरी , कांगड़ी, चंब्याली, मुहासवी, सिरमौरी कने मंडयाली ,
इना सारियां रा नांव हे दित्या मुकाई।

केसी भाषा ने मिंजो बैर नी, हर भाषा छैल हुईं।
पर आपणी जो होरी ते छोटा समझना ,केथी री रीत हई?
अंग्रेजी गाने मॉडर्निटी, ते भ्यागड़े पुराने हुए।
पहाड़ी ग्लांदा ग्वार , ते अंग्रेजी री गाली मुहां री शोभा बढ़ाईं ।

हर भाषा बोली सीखा पढ़ा ते बोला,
पर आपणी मत देंदे गवाई।
हर बोली री आपणी अहमियत हुंई,
मेरे बगैर तुसा रा भी क्या वजूद रहँगा ओ भाई॥

-तुसा री आपणी बोली पहाड़ी

(विचार कने लेखक- अनुराग शर्मा, सहयोग- सुनील डोगरा)